किसान की हत्या के 12 घण्टे बाद शव उठी ,मुवावजे की राशि लौटाई

रिपोर्ट :-अमलेश कुमार -पालीगंज ।

किसान की हत्या के 12 घण्टे बाद शव उठी ,मुवावजे की राशि लौटाई
पालीगंज :-अनुमंडल के सिंगोड़ी थाने क्षेत्र के सोहनबिगहा गाँव मे बीती रात अपने खलिहान में धान की फसल की रखवाली करने के लिए सोए किसान रामध्यान चौहान की अपराधियों ने गोली मारकर मौके वारदाद पर हत्या की घटना के बाद आक्रोशित परिजनों और सैंकड़ो ग्रामीणों ने पीड़ित परिवार को तत्काल 15 लाख रुपए की सहायता राशि , एक सरकारी नौकरी और अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी की माँग के साथ जिलाधिकारी की घटनास्थल पर आने माँग करते हुए करीब 12 घण्टे तक शव को उठाने नही दिया ।


जानकारी के अनुसार सोहनबिगहा गाँव के 40 वर्षीय किसान रामध्यान चौहान अपने खिलहान अपने धान की फसल की रखी अनाज को देखभाल करने के लिए सोए हुए थे ।इसी बीच मे बीती रात करीब 2 बजे के आसपास कुछ अपराधियों न धान को बोरी में भरकर चुराकर ले जा रहे थे कि इसी दौरान कुत्ते की भोकने की आवाज सुनकर नींद खुल गई और धान चुराकर लेकर भाग रहे चोरो से झड़प हो गई ।इस बीच अपराधियों ने पकड़े जाने की डर से मौके वारदाद पर किसान की गर्दन में सटा कर गोली मार दी ।जिससे उसकी मौत मौके वारदाद पर ही हो गई ।


इस बीच इस घटना की सूचना के बाद डीएसपी मनोज पांडे ,इंस्पेक्टर अरुण कुमार सिंह ,थानेदार रशिम रंजन और अन्य कई थानों की पुलिसकर्मियों के साथ दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुँचकर शव को उठाने की कोशिश की लेकिन परिजनों और सैंकडो की संख्या में जुटे ग्रामीणों की विरोध के करण उन्हें बेरंग लौटन पड़ा ।वही इस घटना से आक्रोशित परिजनों ने पीड़ित परिवार को 15 लाख रुपए की सहायता राशि ,पीड़ित परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी ,एवं घटना स्थल पर DM को बुलाने की मांग करते हुए अड़े रहे ।
वही करीब 12 घण्टे की उतार चढ़ाव के बाद अंततः एसडीओ सुरेंद्र कुमार घटना स्थल पर पहुँचकर आक्रोशित परिजनों को 20 हजार रुपए परिवारिक लाभः योजनाओं से मिलने वाली सहायता राशि को देने की प्रयास किया लेकिन परिजनों ने यह राशि को लेने से इंकार कर दिया ।इसके बाद एसडीओ ने जिलाधिकारी से बात कर जिला प्रशासन से यथा सम्भव मिलने वाले उचित सहायता राशि और अपराधियों के विरुद्ध कड़ी करवाई के आश्वासन के बाद किसी तरह से आक्रोशित परिजनों को समझाबुझाकर शव को उठवाया और पोस्टमार्टम के लिए अनुमंडल अस्पताल भेज दिया ।
वही इस घटना से पीड़ित बेहद गरीब महादलित परिवार के परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट ,पीड़ित परिजनों के महिलाओ ने शव के साथ दहाड़े मार मार रोती बिलखती रही ,जिससे पूरे गांव में मातमी माहौल हो गई ।इस घटना के मौजूद लोगों की परिजनों को रोने और चीखने चिल्लाने की आवाज से सबकी आँखे नम होए बिना नही रह रही थी ।
इससे पहले एक डॉस्कवाड की टीम घटना स्थल पर पहुचकर इस मामले की जांच में जुटी रही ।डॉग डाबरमैन ने घटना स्थल पर अपराधियो के छूटे एक पैर की जूते को काफी देर तज सूंघने जे बाद पूरे गाँव के दो चक्कर लगाते हुए सुराग ढूंढने की कोशिश किया ।डॉग ने एक ही जगह गया और कुछ घरों में ताले बन्द थे वहां भी गया ।इस टीम आए पदाधिकारियों ने कहा कि डॉग के दो बार गांव का चक्कर लगाना और एक ही जगहों पर जाना ,कुछ संदेहास्पद स्थिति बया करती है ।इससे साफ संकेत मिलते है कि अपराधियों ने इस घटना को अंजाम देने से पहले रेकी की हो और उस घटना की सुनियोजित रूप से अंजाम दिया हो ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *