जब सनातन संस्था के वकील को तनुश्री ने सुनाई खरी-खरी

तनुश्री दत्ता ने आज तक के कार्यक्रम मुंबई मंथन में भारत में जोर-शोर से चल रहे MeToo मूवमेंट पर बातचीत की. भारत में इस मूवमेंट को शुरू करने वाली एक्ट्रेस तनुश्री ने राजदीप सरदेसाई से बातचीत में कहा कि उन्होंने साल 2008 में भी इस मुद्दे पर बात की थी और तब भी यह मीडिया की सुर्खियों में रहा था. हालांकि आज सोशल मीडिया के चलते इसे ज्यादा महत्व मिला है.

कार्यक्रम में जब सनातन संस्था के वकील नवीन चौमाल ने तनुश्री से पूछा कि क्या ये साजिश नहीं है कि साल 2008 में घटना के बाद आप खामोश रहीं और अब अचानक से सभी ऐसे सामने आ गए हैं जैसे किसी सेना के किसी कमांडर ने आदेश दे दिया हो? जवाब में तनुश्री ने कहा, “मुझे लगता है कि इन सज्जन के पास जानकारी नहीं है.”

उन्होंने कहा कि उन्होंने उस वक्त भी इस मुद्दे को इतने ही जोर-शोर से कहा था और साल 2008 में भी यह मुद्दा मीडिया में था. उन्होंने कहा कि उन्हें बातों को बार-बार दोहराते रहना पसंद नहीं है. हर किसी को सुनने की आदत होनी चाहिए और बोलने से पहले मुद्दे के बारे में ठीक से जानकारी जुटा लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि आप सभी की आवाज महत्वपूर्ण है लेकिन इसका इस्तेमाल दूसरों पर अपनी बात थोपने और पूर्वानुमान के लिए नहीं करें.

उन्होंने कहा कि आज के वक्त में सोशल मीडिया के होने का फायदा उन्हें मिला है. धर्मांतर करने के सवाल पर तनुश्री ने कहा, “मैंने कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया क्योंकि मैं धर्म के कॉन्सेप्ट में ही यकीन नहीं रखती. ऐसा इसलिए क्योंकि ये सारे धर्म हमें दिए गए थे ताकि हम हमारे भीतर वर्तमान में मौजूद चीजों से निजात पा सकें जिन्हें हम नजरअंदाज कर जाते हैं. तनुश्री ने कहा कि वह कोई नास्तिक नहीं हैं. वह भगवान में यकीन करती हैं लेकिन उन्होंने खुद को समीति नहीं किया है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *