NDA को झटका :- पूर्व विधायक ,एवं जिला पार्षद ने राजद का थामा दामन

Reported by Amlesh kumar paliganj
पालीगंज विधानसभा क्षेत्र के राजद से पूर्व विधायक रहे वर्तमान जदयू के वरिष्ठ नेता दीवानाथ सिंह यादव ने घर वापसी करते हुए अपने साथी रहे एवं जदयू के वरिष्ठ नेता वर्तमान जिला पार्षद अरविंद कुशवाहा के साथ जदयू छोड़ राजद का दामन थाम लिया।
जानकारी के अनुसार वही कुछ दिन पहले तक सबकुछ ठीक ठाक चल रहे पूर्व विधायक दीनानाथ सिंह यादव ने अचानक पलटी मारते हुए अपने पुराने घर राजद में वापसी करते हुए अपने पुराने मित्र एवं जदयू के 25 वर्षो से सिपहसालार के रूप में सेवा करने वाले एक कर्तव्यनिष्ठ कार्यकर्ता रहे वर्तमान जिला पार्षद अरविंद कुशवाहा ने पार्टी द्वारा लगातार उपेक्षित किए जाते रहने के बाद विक्षुब्ध होकर रवैए जदयू छोड़ने पर विवश हो गए ।
वहीँ पूर्व विधायक दीनानाथ यादव ने जदयू को छोड़ने की मुख्य रूप सेकारण बताते हुए कहा कि लालू प्रसाद से जेल में किसी से मिलने नही दिया जा रहा है विगत कुछ दिनों से जिसके कारण वे काफ़ी मर्माहत और विक्षुब्ध थे साथ ही उन्होंने कहा केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव की कार्यशैली ठीक नहीं थी ,पूर्व विधायक ने कहा कि वे जनता के उपेक्षाओं पर खरे नही उतरे ,कई समस्याओं को निदान करने में विफल रहे है ,जिनमें मुख्यरूप से बिहटा -औरंगाबाद रेललाइन परियोजना के लिए उन्होंने कुछ भी नही किया सिर्फ लोगो झूठे आश्वाशन ही देते रहे और पाच वर्ष देखते ही देखते बीत गए लेकिन अबतक काम नही शुरूआत करवा सके ।वही समदा नदी पर पुल नही बनना ,सियाराम- भेड़हरिया पथ का निर्माण नही होना ,घूरना बिगहा जोकि दलित बस्ती है वहाँ की अधूरी सड़क को पूरा नही करवा सके जैसे कई स्थानीय समस्याओं का निदान नही होना ये सब स्थानीय सांसद एवं केंद्रीय मंत्री के रूप में उनकी विफलता को साबित करता है जिसके वजह से हमने जदयू को छोड़ने पर विवश हो राजद के दामन थामने का निर्णय लिया ।
वहीँ जदयू के पालीगंज विधानसभा के आधार स्तम्भ माने जाने वाले समता पार्टी के स्थापना से ही नीतीश कुमार के कदमों से कदम मिलाकर चलने वाले अरविंद कुशवाहा ने पार्टी में काफी उपेक्षित महसूस किया और कुशवाहा समाज के खिलाफ राजनीति भागीदारी को समाप्त किए जाने से काफी आक्रोशित है। उन्होंने पार्टी के कुछ नेताओं पर हमला बोलते हुए कहां की जो पार्टी में चंद दिनों से शामिल हुए हैं उनको ज्यादा सम्मान देने का काम किया जा रहा है और जो पार्टी को जमीनी स्तर पर काम किया उन्हें नीचा दिखाया जा रहा है। उन्होंने बोला कि मैंने पार्टी के लिए पिछले 25 सालों से निस्वार्थ भाव से काम किया और अबतक किसी भी पद की कोई लालसा नहीं रखे लेकिन पार्टी में हमारे जैसे कार्यकर्ताओं को सम्मान नहीं देने का काम किया जा रहा है। जिन्होंने पार्टी को अपने खून पसीना से पालीगंज विधानसभा में एक अलग स्थान बनाया आज उन्हीं के साथ पार्टी दुर्व्यवहार कर रही है और जदयू के कार्यकर्ताओं कि लगातार पाटलिपुत्र क्षेत्र में हो रहे हैं उपेक्षा से आक्रोशित होकर मैंने पार्टी छोड़ दिया और इससे पहले पार्टी के विभिन्न नेताओं से बात किया लेकिन कोई जवाब नहीं मिलने के कारण मैंने ऐसा कदम उठाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *