होली में बना रन क्षेत्र एक युवक की मौत दो दर्जन लोग जख्मी हुए

Reported by Amlesh kumar paliganj

पालीगंज:- आपसी प्रेम और सौहार्द की अलख जगाने वाला रँगोंउत्सव की त्योहार होली बन गया पटना जिले के पालीगंज अनुमंडल क्षेत्र अशांति का अखाड़ा कई गांवों में छोटी छोटी बातों को लेकर होली के बहाने हुए हुड़दंग में दो पक्षों के बीच जमकर हुई मारपीट में आपसी सौहार्द को बिगाड़ कर माहौल को काफी तनावपूर्ण बना दिया ।जिसमें एक युवक की मौत के साथ लगभग दो दर्जन से अधिक लोग जख्मी हो गए ।इस दौरान हुई कई गांवों में आपसी विवाद और झड़प में हुई मारपीट की घटना ने अनुमंडल पुलिस की नींद उड़ा दिया ।
जानकारी के अनुसार सबसे पहले होलिका दहन के दिन पालीगंज थाने क्षेत्र के छितर बिगहा गाँव मे दो पक्षों के बीच नाली के पानी को लेकर हुई विवाद ने तनाव पैदा कर दिया ।जिसकी सूचना के बाद डीएसपी मनोज पांडे के पुलिस पदाधिकारियों के साथ दलबल के साथ पहुचकर इस मामले को दोनो पक्षों को किसी तरह से समझा बुझाकर शांत करवाया और दोनों पक्षों ने आपस मे एक दूसरे को रंग गुलाल लगाकर आपसी मनमुटाव को खत्म किया ।।
वहीँ होली के दिन महाबलीपुर में दो पक्षों के एक मोटरसाइकिल सवार से हलके धक्के लगने से मामूली चोट लगने की विवाद ने इतना तूल पकड़ा की दोनो पक्षों ने बारी बारी से लगभग 20 राउंड के आसपास हवाई फायरिंग करते हुए एक दूसरे के विरुद्ध शक्ति प्रदर्शन किया ।बाद में इस। घटना के सूचना के बाद पहुँचकर पुलिस ने मामले को शान्त करवाया ।जिसमें एक खोखे और एक।मोटरसाइकिल लावारिस हालत में बरामद करते हुए एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर पुलिस जेल भेज दिया ।
वही तीसरी घटना होली के तीसरे दिन बसीऔरा के दौरान निकलने वाले झुमके जुलूस खिड़ीमोड़ थाने क्षेत्र के इमामगंज बाजार पर रंग फेकने को लेकर हुई विबाद ने इतना तूल पकड़ लिया कि बेदौली गाँव और मखमिलपुर गाँव के बीच दोनों पक्षों में जमकर लाठी डंडों के मारपीट में 8 लोग जख्मी हो गए ।जिसमें एक युवक की मौत ईलाज के दौरान हो गई ।
वहीँ चौथी घटना पालीगंज थाने के दरियापुर अनन्त गाँव मे गाँव के ही दो।पक्षों के बीच बसीऔरा के झुमके जुलूस के विरोध में जुलूस वाले को दूसरे पक्ष के रास्ते से नहीं जाने के लिए मना करते जमकर कर पिटाई लाठी डंडों से कर दिया ।इस घटना में भी लगभग आधा दर्जन लोग जख्मी हो गए ।जिसमें कई लोगो को गम्भीर चोटे भी आई ।पुलिस इस घटना की जांच में जुटी है ।यह तो मुख्य रूप से एक बानगी भर है ।कई गांवों में तो ऐसे मामूली मारपीट हुई है ।जोकि सामने नहीं आ सकी है ।उसे आपस मे बड़े बुजुर्गों द्वारा समझा बुझाकर किसी तरह से शांत करवाया दिया गया ।जिसका उल्लेख करना थोड़ा ज्यादती होगा ।
इस सब घटनाओं के पीछे शराब की खुलमखुला उपयोग करने के बाद हो रही है ।शराबबन्दी होने के वावजूद भी शराब को उपयोग खुलमखुला होना गहरी चिंता का विषय है ।शराबबन्दी दूसरे शब्दों में कहे तो विफल ही कही जा सकती है ।
राज्य सरकार की शराबबन्दी पर सख्ती बेअसर साबित हो रही है ।या इसे दूसरे शब्दों में यू कह सकते है कि शराबबन्दी सरकार को मुंह चिढ़ा रही है ।सभी जगहों पर 12 सौ रुपए में इंग्लिस शराब और दो सौ रुपए तक देशी शराब उपलब्ध रूप से मिल रही है ।आखिर शराब कहा से और कैसे आ रहे है और बिक रहे है ।आखिर बिना पुलिस की मिली भगत से यह सम्भव नही हो सकते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *